बैंक कर्मचारियों के ख‍िलाफ शिकायत कैसे दर्ज करे जाने यहाँ – How to file complaint against bank employees

बैंक कर्मचारियों के ख‍िलाफ शिकायत कैसे दर्ज करे जाने यहाँ – How to file complaint against bank employees in hindi

How to file complaint against bank employees

कई बार कुछ कुछ बैंक में ग्राहकों के साथ नाइंसाफी हो जाती है। जैसे.. बैंक अकाउंट खोलने या बंद करने में आनाकानी करना, क्रेडिट कार्ड बिल समय पर भरने पर भी अतिरिक्त शुल्क वसूलना, पूर्व सूचना के बगैर सर्विस चार्ज लगाना, बगैर उचित कारण के लोन आवेदन को रद्द करना, बिना वजह बैंक कर्मचारी ग्राहकों पर चिड जाना या बैंक कर्मचारी द्वारा ग्राहकों को ठीक से सर्विस नहीं मिलना आदि।

ऐसे स्थिति में ग्राहक करे तो क्या करे.. लेकिन आप लोग शायद नही जानते होंगे की हम ग्राहकों के पास भी  बैंकिंग लोकपाल जैसा एक बेहद मजबूत अधिकार  होता है। जिसके तहत हम ऐसे गैर-सेवा बैंक कर्मचारियों को उनकी नानी याद दिला सकते है। चलिए आगे जानते है क्या है – कौन है यह बैंकिंग लोकपाल.. इस बारे में –

.

. .

बैंकिंग लोकपाल कौन होता है

बैंकिंग सेक्टर से जुड़ी उपभोक्ता शिकायतों का निवारण करने के लिए आरबीआय अर्थात भारतीय रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया एक वरिष्ठ अधिकारी नियुक्त करता है। उस अधिकारी को बैंकिंग लोकपाल (Banking Ombudsman) कहते है। यह अधिकारी बैंकिंग सेक्टर से सबंधित निर्दोष उपभोक्ताओं को न्याय दिलाने का काम करता है।

यदि किसी बैंक कर्मचारी ने बिना वजह बैंकिंग उपभोक्ताओं को परेशान किया या अतिरिक्त शुल्क – जुर्माना आदि लिया या ठीक से सर्विस नहीं दिया तो उस बैंक कर्मचारी को इसके लिए इसकी सजा भी मिल सकती है साथ ही शिकायतकर्ता को अधिकतम 10 लाख रुपये तक अर्थात उपभोक्ता का जितना नुकसान हुआ है वो मुआवजे के रूप में मिल सकता है। इसके अलावा मानसिक पीड़ा और प्रताड़ना के लिए लोकपाल 1 लाख रुपये से अधिक मुआवजे के रूप में देने का फैसला दे सकते हैं।

.

बैंकिंग लोकपाल के पास शिकायत दर्ज करने से पहले

बैंकिंग लोकपाल के पास शिकायत दर्ज करने से पहले उपभोक्ता को अपने बैंक में इसकी शिकायत करनी होगी बैंक के वरिष्ट अधिकारीयों से बात करनी होगी। अगर वे आनाकानी करे तो उपभोक्ता बैंकों के टॉल फ्री कस्टमर केयर नंबर है वहां अपनी शिकायत दर्ज कराके कंप्लेंट आईडी ले सकते हैं। इसके अलावा बैंक की वेबसाइट पर भी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

उपभोक्ता को शिकायत दर्ज होने के बाद कम से कम 30 दिनों तक इंतजार करना चाहिए क्योंकि इस प्रक्रिया के जाँच के लिए अधिकतम 30 दिन भी लग सकते है। उसके बाद भी अगर उपभोक्ता को बैंक की तरफ से समाधान कारक जवाब नहीं मिला तो उपभोक्ता आगे की करवाई के लिए कदम बढ़ा सकता है अर्थात बैंकिंग लोकपाल के पास शिकायत दर्ज कर सकता है।

.

आगे पढ़े : किस प्रकार के मामलों में आप बैंक कर्मचारियों के ख‍िलाफ शिकायत दर्ज कर सकते है एवं बैंकिंग लोकपाल के पास शिकायत कैसे दर्ज करे 

  • ऐसे ही रोचक जानकारियों के लिए हमसे जुड़े रहे और हमारे फेसबुक पेज को लाइक जरुर करे साथ ही इस आर्टिकल को सोशल साइट्स पर शेयर करना ना भूले !

यह आर्टिकल भी जरुर पढ़े :

. .
Facebook Video कैसे डाउनलोड करे इस 10 समस्याओ से राहत दिला सकता है सौफ का सेवन
रेलवे में जॉब पाने के लिए यह जरुर पढ़े  इन 10 समस्याओं से राहत दिला सकता है मछली का सेवन
मोबाइल पर कार्टून विडियो कैसे बनाए इन 10 समस्याओं से राहत दिला सकता है मूंगफली का सेवन
सरकारी जॉब पाने के लिए यह जरुर पढ़े  इन 7 समस्याओ से राहत दिलाता है विटामिन ई का सेवन
शिक्षा लोन कैसे प्राप्त करे किडनी स्टोन, बवासीर, अस्थमा जैसी समस्याओं से राहत दिलाता है यह पेड़
बिना इन्टरनेट के फिल्म कैसे डाउनलोड करे रात को खाना खाने के बाद गुड खाने के फायदे नहीं जानते होने आप 
मोबाइल से डिलीट हुवा डाटा कैसे वापस लाए एचआईवी, कैंसर, ब्लड शुगर को जड़ से मिटा सकती है यह पत्ती 
IRCTC ऑफर्स.. दस हजार कमाने का मौक़ा दमा अस्थमा को कम कर देता है यह फल
घर बैठे अपने मोबाइल नंबर को आधार नंबर से ऐसे करे लिंक जोड़ो के दर्द से ऐसे राहत पाए
अगर आपके एक से ज्यादा बैंक अकाउंट है तो ये खबर जरुर पढ़े एलोवेरा इन 5 रोगों को जड़ से मिटा देता है
शार्ट टर्म पर्सनल लोन कैसे ले आँखों की रोशनी बढ़ेगी अपनाइए ये टिप्स

 

Advertisment..
4 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *