शुगर की समस्या का घरेलु इलाज | Diabetes Ka Ayurvedic Treatment

आज हम इस लेख एक महत्वपूर्ण हेल्थ टिप्स के बारे में जानने वाले हैं। आज का टॉपिक है “शुगर की बीमारी घरेलु इलाज” – Shugar Ka Gharelu Upchaar. घरेलु इलाज से शुगर की बीमारी से कैसे मुक्ति पाएं तथा शुगर की बीमारी उत्पन्न होने का कारण।

 

Madhumeh ka ayurvedic ilaj

गलत खानपान के वजह से शुगर की बीमारी उत्पन्न होती हैं, इसलिए हमें अपने खाने पर नियत्रण रखना होगा। वैसे तो यह बीमारी एक आम बीमारी है लेकिन इस बीमारी का यदि समय पर इलाज ना हुवा तो यह बीमारी जानलेवा हो सकती है। इस बीमारी को मधुमेह (Diabetes) की बिमारी के नाम से भी जाना जाता है। जानकारी के अनुसार पुरे विश्व में इस बीमारी ने अपना जाल सा बिछा रखा है। रोजाना इस बीमारी के रोगियों की संख्या बढ़ती जा रही है।

आर्युर्वेद में कहा गया है की मधुमेह एक घातक बीमारी है। जिसके वजह से मनुष्य के शरीर में कई असाध्य बीमारियां घर बनाती है। रक्त की कमी मनुष्य की सबसे बड़ी कमजोरी होती है, दुबले-पतले और कमजोर व्यक्ति को तथा अधिक आराम जी जिंदगी जीने वाले मनुष्य पर यह बीमारी जल्द हावी हो जाती है।

 मधुमेह के लक्षण : Symptoms Of Diabetes

➛ अधिक आलस और थकान महसूस होना
➛ मुँह सुखना, अधिक प्यास लगना
➛ वजन कम होना, कमजोरी महसूस होना
➛ बार बार पेशाब आना
➛ चक्कर आना, सांस लेने में तकलीफ होना

शुगर होने के कारण : Causes Of Diabetes

➲ जंक व फास्ट फूड खाने वाले व्यक्ति को शुगर की बीमारी होने की अधिक संभावना रहती है। क्योकि इस तरह के खाने से शरीर में कैलोरीज की मात्रा अधिक बढ़ती है, मोटापा बढ़ता है और इन्सुलिन (Insulin) कम मात्रा में बनता है जिसके कारण शरीर में शुगर लेवल बढ़ता है।

➲ Diabetes यह एक अनुवांशिक बीमारी है, यदि किसी के माता-पिता को Diabetes की शिकायत है तो उनके बच्चो को भी यह शिकायत होने की अधिक सम्भावना रहती है।

➲ अधिक मीठी चीजे खाना, चीनी वाले चीजे खाना, दूध से बनाये हुए चीजे खाना, चीनी, गूढ़ की चाय पीना आदि कारणों से भी मधुमेह की बीमारी होने की सम्भावना रहती है।

➲ अधिक आराम की जिंदगी जीना, कोई भी शारीरिक परिश्रम ना करना, व्यायाम ना करना यह भी कारण हो सकता है Diabetes होने का।

➲ तनाव में रहने से व धूम्रपान, तंबाखू तथा अधिक दवाइयों के सेवन से भी मधुमेह की बीमारी होती है।

शुगर की बीमारी इलाज : Treatment of Diabetes Disease

1. शुगर की समस्या को रोकने के लिए करेला बहुत लाभदायक है। करेला रक्त में शर्करा के प्रभाव कम करता है। करेला आहार में शामिल करें तथा रोजाना सुबह खाली पेट करेले का ज्यूस बनाकर पिए।

2. जानकारी के अनुसार मधुमेह की समस्या को रोकने के लिए या फिर कंट्रोल करने के लिए एलोवेरा भी बहुत फायदेमंद हो सकता है। सुबह खाली पेट एलोवेरा के पत्तो को छील कर उसके अंदर का रस पिए या फिर उसकी सब्जी बनाकर खा सकते है।

3. मेथी के दाने भी बहुत लाभदायक है शुगर कंट्रोल करने के लिए। रक्त में शर्करा का प्रभाव कम करने के लिए मेथी के दानो में बहुत से गुण मौजूद होते है। रात में 2 चम्मच मेथी के दाने आधा कप पानी में भिगाये और फिर मेथी के बीजो को चबा चबा कर खाये और साथ में पानी पिए।

4. तूलसी के पत्तो में एंटीऑक्सीडेंट और जरुरी तत्व होते है। जिससे शुगर लेवल को कम किया जा सकता है। रोजाना 2 चम्मच खाली पेट तुलसी के पत्तो का रस पिए बहुत लाभ होगा।

5. शुगर के रोगियों को नियमित रूप से 2 चम्मच नीम के पत्तों का रस और 4 चम्मच केले के पत्तों का रस पीना चाहिए, अधिक लाभ होगा।

अन्य उपाय Shugar Control करने के

➲ शुगर के मरीजों को अधिक प्यास लगती है, इसलिए निम्बू निचोड़कर पिने से प्यास कम हो जाती है।

➲ शुगर के रोगी को पालक, लौकी, परवल, करेला, पपीता आदि अधिक खाना चाहिए।

➲ Shugar के रोगी को काले जामुन अधिक खाने चाहिए, इसे नमक के साथ खाना चाहिए, अधिक लाभ होगा।

➲ करेले का जूस, टमाटर का जूस शुगर रोगी को रोजाना सुबह खाली पेट पिना चाहिए, अधिक लाभ होगा।

➲ शुगर के रोगी को आम की पत्तियों का रस पीना बहुत फायदेमंद होता है। रात को सोने पहले एक ग्लास पानी में आम की पत्तियां भिगो कर रखे और फिर सुबह उस पानी को छान कर पिए, अधिक लाभ होगा।

Related Article

➨ वात का घरेलू इलाज

➨ चेहरे से मुहांसे के गड्ढे कैसे भरे

➨ कील-मुहासों का सफाया कैसे करें

➨ थकान व कमजोरी का घरेलु इलाज

➨ टीबी रोग के लिए घरेलू उपचार

➨ लकवा का असरदार इलाज

➨ दिमाग तेज करने व याददाश्त बढ़ाने के घरेलू उपाय

➨ जल्द नींद न आने के कारण व उपाय

➨ शरीर में तेजी से खून कैसे बढ़ाएं

➨ तंदुरुस्त, सेहतमंद रहने के घरेलु उपाय

 Note : इस वेबसाइट के सभी लेख लोगों के अनुभवों के आधार पर तथा आयुर्वेद के उपायों का परीक्षण किए गए प्रयोगों के आधार पर तैयार किए गए हैं। कृपया कोई भी उपाय प्रयोग करने से पहले किसी अच्छे आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह अवश्य लें।

 

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *