बवासीर की समस्या का असरदार घरेलु इलाज | Home Remedies For Hemorrhoids

बवासीर की समस्या को जड़ से मिटाये : आजकल बवासीर की समस्या अधिक दिखाई दे रही है। जानकारी के अनुसार दुनिया के 10 प्रतिशत लोग बवासीर की समस्या से ग्रस्त हैं। जब बवासीर की समस्या उत्पन होती है तब मनुष्य को अधिक दर्द, असहनीय कष्ट का सामना करना पड़ता है। आयुर्वेद में तथा आयुर्वेद के अनुसार बवासीर की समस्या उत्पन्न होने का मुख्य कारण गलत खानपान व मनुष्य की लाफरवाही है, ऐसा बताया गया है।

Bawasir ka ilaj

Bawaseer ka ilaj | Piles ka ilaj | Hemorrhoids ka treatment

Piles : बवासीर को पाइल्स तथा अर्श भी कहा जाता है। बवासीर की समस्या पैदा होते ही मनुष्य का चैन सुकून छीन लेती है। बवासीर की समस्या पीडित मनुष्य को बहुत ही तकलीफदेय, दर्दमय, असहनीय कष्ट का सामना करना पड़ता है। चाहे दिन हो या रात हर समय मनुष्य दर्द से ग्रस्त रहता है। इस स्थिति में न कुछ कहते बनता है और न ही सहते बनता है।

बवासीर का नाम लेते ही हम इसे आम समस्या समझकर अनदेखा कर देते है, लेकिन जिसने इस पीड़ा को भोगा है वहीं इसके दर्द और तकलीफ को समझ सकता है। बवासीर की समस्या पैदा होते ही मलद्वार में असहनीय तकलीफ, कांटों सी चुभन, मल द्वारा रक्त निकलना,  मस्से और घाव, जलन आदि गंभीर समस्याएं उत्पन्न होती है। कोई सामान्य व्यक्ति सोच भी नहीं सकता इतनी ज्यादा परेशानी होती है बवासीर की समस्या उत्पन्न होने पर।

शुगर की समस्या का घरेलु इलाज
पथरी का असरदार घरेलू इलाज
लकवा का असरदार इलाज
टीबी रोग के लिए घरेलू उपचार

.

बवासीर के लक्षण : Symptoms of piles

➛ मलद्वार के आसपास खुजली होना
➛ मलद्वार के आसपास फोड़े, फुंसी पीड़ा युक्त सूजन आना
➛ उठते बैठते व चलते समय गुदा द्वार में दर्द होना
➛ मल त्याग का समय कष्ट का आभास होना
➛ मल त्याग के बाद रक्त निकलना

.

बवासीर का कारण : The cause of Piles

➛ गलत खानपान तथा खाने में जरुरी पोषक तत्वों की कमी के कारण बवासीर होती है।

➛ अधिक समय तक शौच को रोकने से बवासीर की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

➛ ज्यादा मिर्च मसाले, तले हुए व जल्दी न पचने वाले चीजे सेवन करने से बवासीर की समस्या उत्पन्न होने लगती है।

➛ लम्बे समय तक एक जगह पर बैठे रहने से बवासीर की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

➛ अधिक दवाइयों का सेवन करने से बवासीर की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

➛ लम्बे समय तक कब्ज की शिकायत रहने से बवासीर की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

➛ वंशागत-अनुवांशिक कारणों से बवासीर की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

➛ गर्भावस्था में भ्रूण का भार बढ़ने पर बवासीर की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

➛ नींद पूरी ना होने तथा देर रात तक जागने से बवासीर की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

.
बवासीर में करें परहेज : Avoid For Piles

बवासीर में क्या खाना चाहिए, क्या नहीं खाना चाहिए सबसे पहले हमें इसके बारे में जानना जरुरी है। अनियमित तथा गलत खानपान के कारण बवासीर की समस्या उत्पन्न होती है। इसलिए सबसे महत्वपूर्ण है हमें क्या खाना है और क्या नहीं खाना है।
ऐसा भोजन करे जिसमे अधिक फाइबर हो जो आसानी से पचन हो जाएं। ओट्स, मका गेहू, अंजीर, पपीता, केले, अंगूर, आम, जामुन, ब्लैकबेरी, सेब, प्याज, मूली, हरी सब्जियां आदि अपने भोजन में शामिल करें। सौच को मुलायम बनाने के लिए अधिक से अधिक पानी पिए, द्रव पदार्थो का अधिक सेवन करे।
बैगन, आलू , अंडा, दूध, जंक फ़ूड, मैदा, तले हुए पदार्थ, अधिक मिर्च मसाले, पैकिंग किये हुए चीजे इनका सेवन बवासीर में हानिकारक हो सकता है। इसलिए इन चीजों का त्याग करें तथा धूम्रपान और शराब का सेवन भी त्याग दे। गर्म होने वाले चीजे तथा दूध से बने सभी चीजों का त्याग करें, सिर्फ दही, लस्सी और छांस का सेवन कर सकते है।
 .
बवासीर की समस्या से छुटकारा पाने के घरेलु उपाय : Piles treatment
.

➲ नारियल की जटा से खुनी बवासीर का इलाज किया जाता है। कुछ नारियल की जटा लीजिए और उसे माचिस से जला दीजिए। जलकर भस्म बन जाएगी अब इस भस्म को कांच की शीशी में भर कर ऱख लीजिए। एक डेढ़ कप ताजा छाछ या दही के साथ नारियल की जटा से बनी भस्म को तीन ग्राम खाली पेट दिन में तीन बार सिर्फ एक ही दिन लेनी है। इस प्रयोग से एक दिन में ही रक्तस्राव बंद हो जाता है। ध्यान रहे दही या छाछ ताजी हो खट्टी न हो।

➲ बवासीर के मस्सों से छुटकारा पाने के लिए 2 प्याज को धीमी आग में सेंककर छिलका उताकर उसका पेस्ट बनाकर मस्सों पर लगाके बांधने से मस्से जल्द ही नष्ट हो जाते हैं।
.
➲ बवासीर में मूली (Radish) का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। कच्ची मूली खाना चाहिए अथवा मूली का रस भी सेवन करना अधिक लाभदायक होता है। मूली का रस एक साथ 20 से 40 ग्राम से अधिक ना पिए।
 .
➲ बवासीर में इलायची का चूर्ण का सेवन करना अधिक फायदेमंद होता है। 50-60 ग्राम बड़ी इलायची तवे पर भून कर उसका चूर्ण बनाये और रोजाना सुबह खाली पेट पानी से साथ चूर्ण का सेवन करें इसके नियमित प्रयोग से बवासीर जल्द ठीक हो जाएगी।
.
➲ बवासीर में किशमिश का सेवन भी अधिक फायदेमंद होता है। रात में 100 ग्राम किशमिस पानी में भिगोकर रखे और सुबह को उसी पानी में किशमिश को हाथ से पिस ले। अब इस मिश्रण को रोजाना सेवन करे, कुछ ही दिनों में सकारात्मक परिणाम दिखाई देगा।
 .
➲ बवासीर के मस्सों पर रोजाना एक महीने तक नियमित रूप से पपीते का दूध लगाने से मस्से सूख जाते हैं।
.
➲ बवासीर में अंजीर का सेवन अधिक लाभदायक है। रात में 2 अंजीर पानी भिगोके रखे और उन्हें सुबह खाये, एक घंटा आगे पीछे कुछ न लें। फिर और 2 अंजीर पानी में भिगोये और शाम को 5-6 खाये। इस प्रक्रिया को 10 दिन तक प्रयोग करें। इस प्रयोग से किसी भी तरह की बवासीर जल्द ही ठीक हो जाती है।
 .
➲ बवासीर में हल्का हल्का व्यायाम करना अधिक लाभदायक होता है तथा लगातार एक ही जगह पर बैठकर काम न करे, बीच बीच में इधर उधर टहलते रहे।
 .

➲ रोजाना आंवले का चूर्ण सेवन करने से पेट साफ रहता है, जिससे बवासीर होने की संभावना भी समाप्त हो जाती है।उपरोक्त विषय पर किसी का कोई भी सवाल या सुझाव है तो कृपया कमेंट करके हमें जरूर बताये।

“बवासीर का घरेलू इलाज” यह लेख पसंद आये तो इस लेख को अपने दोस्तों में तथा सोशल साइट्स पर शेयर करना ना भूले।

.

➲ Related Article 

वात का घरेलू इलाज

पेट में गैस की समस्या होने के कुछ कारण

चेहरे पर काले दाग धब्बे आने के 10 कारण

चेहरे से काले दाग धब्बे मिटाने के कुछ घरेलू उपाय

भूख कम होने के कारण व भूख बढ़ाने के उपाय

भूख बढ़ाने के घरेलु उपाय

खांसी व सूखी खांसी का घरेलू इलाज

गंजेपन का सफल इलाज

पेट की चर्बी कम करने के 10 आसान घरेलू उपाय

चश्मा हटाये और अपनी आँखों की रोशनी बढ़ाएं

 

Note : इस वेबसाइट के सभी लेख लोगों के अनुभवों के आधार पर तथा आयुर्वेद के उपायों का परीक्षण किए गए प्रयोगों के आधार पर तैयार किए गए हैं। कृपया कोई भी उपाय प्रयोग करने से पहले किसी अच्छे आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह अवश्य लें।

.

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *