चीटी और हाथी की एक रोचक कहानी, एक बार इसे जरुर पढ़े

एक चीटी और एक हाथी था. एक दिन चीटी अपने घर से कुछ खाने के लिए बाहर निकली थी. तभी उसे एक हाथी दिखा. उसे देखकर वह अपने घर वापस आ गई.

फिर दुसरे दिन चीटी फिर से घर से बाहर निकली. उस दिन भी उसे हाथी दिखाई दिया. फिर उसने सोचा कि मै ऐसे ही डरूंगी तो भूखी ही रह जाउंगी. यही सोचते हुए चीटी घर के बाहर निकल जाती है.

. .
चीटी और हाथी की एक रोचक कहानी

तभी चीटी ने सोचा की हाथी बडा है तो क्या हुआ. मै उससे छोटी जरुर हूँ. पर मै जब उसके नाक में घूस जाउंगी और उसे काटूँगी तो वह रोना बंद नहीं करेगा. लेकिन यदि उसने मुझ पर पैर रख दिया तो मै तो मर ही जाऊगी. ऐसे ही उसके मन में तरह तरह के खयाल आ रहे थे.

फिर उसने दुसरे चीटी से पुछा तो, दुसरे चीटी ने उसे सलाह दिया और कहा कि हाथी तो फुक फुक के चलता है. हाथी जितना मोटा है उतना ही अधिक चीटी से डरता है. ऐसे में हम भले हाथी से क्यो डरे, यही दुसरी चीटी उसे बताती है.

फिर दुसरे दिन चीटी हिम्मत करके भोजन के लिए घर के बाहर निकलती है. तभी उसे हाथी दिखाई देता है, पर वो हाथी से बिलकुल भी नही डरती है. वह खाना खोजते हुए एकदम हाथी के सामने जाकर खडी हो जाती है. उसे देखकर हाथी हसता है और हाथी उसे पुछता है, ये चीटी तुम यहां क्या कर रही हो.. फिर चीटी ने उसे जवाब दिया कि मै अपना काम कर रही हूँ.

. .

फिर हाथी बोला.. कौनसा काम, चीटी बोली हमे भूख मिटाने के लिए कुछ खाने की चीजे ढूंढना पडता है, तभी हमारी भूख मिटती है. इस पर हाथी हसता है और कहता है कि अपना साइज़ तो देखो, मै तुझ पर अपना एक पैर  रखूँगा तो तु मर जायेगी.

इस पर चीटी हाथी को कडक जवाब देती है, वो कहती है.. ज्यादा इतरा मत, मै साइज़ से जरुर छोटी हु, पर मै तुमसे ज्यादा दिमाग वाली हु. यदि मै तुम्हारे नाक में घूस गयी ना, तुम्हारी सारी हवा बाहर निकल जाऐगी.

फिर हाथी बोला.. चलो देखते है कि कौन जीतता है और कौन हारता है. तभी उन दोनो कि लढाई सुरु हो जाती है. फिर हाथी चीटी पर पैर रखने की कोशिश करता है. तभी चीटी हाथी के पैर से चढ़ते हुए नाक में घूस जाती है और वहां जोर जोर से काटने लगती है. हाथी बहुत तडपने लगता है, रोने लगता है और चीटी से माफ़ी मांगता है.

तब चीटी कहती है.. और निकालूं दादागिरी, साले, हसेगा किसी पर, तब हाथी रोते हुए चीटी से माफ़ी मांगता है. इस तरह छोटी सी चीटी की जीत हो जाती है और उतना बडा हाथी हार जाता है.

 

. .

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है:

इस कहानी से हमे यह सीख मिलती है कि कोई छोटा या कोई बडा नही होता है. हमारी सोच छोटी बड़ी हो सकती है. छोटा भी बड़ों का काम कर सकता है. एक छोटी सी चीटी भी हाथी को हरा सकती है. इससे हमें यह भी सीख मिलती है कि किसी की कमजोरी पर बेवजह हँसे नहीं, शरीर के शक्ति से बड़ी दिमाग की शक्ति होती है.

Author: Pooja S

यह भी जरुर पढ़े

Advertisment..

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *