कॉर्पोरेट लोन कैसे ले, Corporate Loan से जुड़ी आवश्यक जानकारी जानिये..

.कॉर्पोरेट लोन कैसे ले, Corporate Loan से जुड़ी आवश्यक जानकारी जानिये..


कॉर्पोरेट लोन कैसे ले, Corporate Loan किसे व कैसे मिल सकता है, जानिये सभी जानकारी 

जैसे.. पर्सनल लोन, होम लोन, बिज़नेस लोन, गोल्ड लोन, प्रॉपर्टी लोन, प्रोजेक्ट लोन उसी तरह Corporate Loan भी एक लोन का प्रकार है। यह लोन साधारण लोन नहीं है, भारत के बड़े बड़े Businessman जैसे.. विजय माल्या, अम्बानी, टाटा बिरला, जैसे लोगों को बैंक यह लोन मुहैया कराता है, उसे कॉर्पोरेट लोन कहते हैं। लेकिन यह लोन सिर्फ अरबपतियों मिलता है ये गलत है, हां लेकिन यह लोन प्राप्त करना आसान भी नहीं है। यह लोन या कोई भी लोन प्राप्त करने के लिए बैंक के नियम और शर्तो को फोल्लो करना बेहद जरुरी है।

.

कैसे व किसे मिलता है कॉर्पोरेट लोन (How & who gets corporate loans)

जब कोई Businessman अपनी कम्पनी के आधार पर Loan लेता है या फिर बड़ी बड़ी कंपनियां खरीदने के लिए लोन लेता है, इस लोन को Corporate Loan कहते है। बैंक कंपनियों के लिए बड़े Amount का लोन प्रदान करती है, इससे पहले Bank उसके सभी प्रोजेक्ट पर ध्यान देती है, जैसे की प्रोजेक्ट लोन। बैंक.. Company की Balance sheet और Turnover को देखकर लोन का अमाउंट घोषित करता है.. कहने का मतलब आवेदक लोन चुकाने में समर्थ है तभी लोन पास किया जाता है।

Bank और कई बड़े बड़े Finance companies यह लोन प्रदान करती है, लोन देने से पहले आवेदक को Corporate Loan के बारे में पूरी जानकारी दी जाती है, जैसे.. कॉर्पोरेट लोन पर कितना ब्याज लगेगा, EMI कितनी बनेगी, अगर लोन नहीं चुकाया तो क्या होगा एवं बैंक/फाइनांस कंपनियों के नियम व शर्तो की जानकारी आदि।

.

बैंक कैसे वसूलती है कॉरपोरेट लोन (How the Bank recover Corporate Loans)

1. अगर किसी बिज़नेस मैन Corporate Loan लिया है और चुका नहीं रहा तो बैंक उसे तीन महीने की मोहलत देती है।

2. अगर उसने तीन महीने के मोहलत के बाद भी लोन नहीं चुकाया तो बैंक बिज़नेस मैन को NPA घोषित कर देती है, NPA का अर्थ नॉन परफार्मिंग एसेट्स।

3. उसके बाद लोन लेने के खिलाप स्यूट फाइल किया जाता है और बैंक डेप्थ रिकवर ट्रायबनल करार देता है।

4. उसके बाद उसके सिक्योरिटी के तौर पर रखी गई प्रॉपर्टी पर नोटिश जारी किया जाता है।

5. इसके बावजूद भी बिज़नेस मैन ने लोन अमाउंट नहीं जमा किया तो 13 (2) के तहत बैंक फिर से 60 दिन तक का इन्तजार करता है।

6.  इसके बावजूद भी बिज़नेस मैन का कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला तो 13 (4) के तहत उसकी प्रॉपर्टी सीज की जाती है और बिज़नेस मैन के खिलाप कार्रवाई सुरु की जाती है।

.

Related keyword : bank and finance service se corporate loan kaise le, how to take corporate loan in Hindi.दोस्तों अगर आपको यह लेख अच्छा लगे तो हमें कमेंट करके जरुर बताये एवं हमारे फेसबुक पेज को लाइक करके इस लेख को अपने मित्रों में शेयर जरुर करे साथ ही इस लेख जुड़ा किसी का कोई भी सुझाव या सवाल है तो वह हमें कमेंट करके पूछ सकते है।

.
यह आर्टिकल भी जरुर पढ़े :

Aadhaar Card Tips
Government Tips

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *